बड़कागांव के राजीव रंजन यूनेस्को के अंतरास्ट्रीय कार्यक्रम में जर्मनी के ओर से सामिल हुवे



यूनेस्को एवं यूरोपियन यूनियन द्वारा 10-16 दिसम्बर को एम्पोवेरिंग युथ इनोवेटर्स कार्यक्रम का आयोजन थेस्सोलिनीकी, ग्रीस में हुवा। इस कार्यक्रम के लिए 8 देशों से 29 उत्कृष्ट प्रोफेशनल्स को चुना गया था।

बड़कागांव, हजारीबाग के राजीव रंजन, जो की अभी जर्मनी में जर्मन मिनिस्ट्री(BMZ) के एक कार्यक्रम में कार्यरत हैं, उन्हें भी जर्मनी के और से बुलाये जाने वाले 3 लोगों में से चुना गया।

ग्रीस में आयोजित “एम्पोवेरिंग युथ इनोवेटर्स कार्यक्रम” के बाद राजीव वापस जर्मनी लौटकर युवावों को आगे बढ़ाने वाले परियोजनाओ पर कार्य करेंगे ।

राजीव ने महज 27 साल की उम्र में ये मुकाम हासिल किया है।

ग्राम बेला, हरली पंचायत,बड़कागांव के निवासी राजीव ने प्रारंभिक शिक्षा हरली हाई स्कूल स्कूल, बड़कागांव से करने के बाद I.Sc की पढ़ाई markham कॉलेज से की। BCA इग्नू, कोलंबस से करने के बाद वो आगे वो MBA करना चाहते थे। किंतु साधारण परिवार होने के कारण उनके पास पर्याप्त पैसे नही थे। फिर भी वो अपनी ज़िद्द से दिल्ली चले गए। वहां राजीव ने CAT में अच्छे मार्क्स लाए एवं साथ ही एक फ़ेलोशिप प्रोग्राम में चयन हो जाने से सारी मुश्किलें हल हो गईं। टाटा-धान के फ़ेलोशिप से राजीव ने पोस्ट ग्रेजुएशन इन डेवलपमेंट मैनेजमेंट की पढ़ाई की। पिछले 4 साल से वो भारत के विभिन्न हिस्सो में कार्यरत थे। इस दौरान उन्होंने राष्ट्रीय स्तर के परियोजनाओं में कार्य किया। इस दौरान राजीव ने अपने राज्य के लिए कुछ करने की ठानी और फरवरी 2016 में वापस झारखण्ड आ गए। यहाँ वो डेवलपमेंट ऑफ़ ह्यूमेन एक्शन फॉउंडेशन के झारखण्ड के रीजनल कोऑर्डिनेटर थे। इशी दौरान उन्हें जर्मन मिनिस्ट्री के प्रोग्राम के अंतर्गत जर्मनी जाने का मौका मिला।

राजीव कहते हैं कि यूनेस्को के कार्यक्रम में चुना जाना उनके लिए गर्व की बात है। भविष्य में वो अपने अंतरास्ट्रीय अनुभव से झारखडं में भी युवावों के लिए कुछ करना चाहते हैं। बड़कागांव की मिट्टि उन्हें हमेशा प्रेरणा देती है । राजीव 27 दिसम्बर को Italy, एवं 04-01-2017 को पेरिस, फ्रांस जा रहे।

0 views0 comments